Ohm's Law Definition And Limitation In Hindi

ओह्म के नियम का परिचय (Introduction Ohm’s Law)

ओह्म के नियम का आविष्कार जॉर्ज साइमन ओह्म ने किया था । इस वैज्ञानिक ने Dc परिपथों में विधुत धारा(Electric Current) विभवांतर(Voltage) तथा प्रतिरोध(Resistance) के बीच एक नियम को स्थापित किया था, जिससे हम इनके बीच व्यवहार को समझ सकते हैं और इसे ही हम ओह्म का नियम कहते हैं । इस वैज्ञानिक इसकी खोज 1827 ईस्वी में की थी ।

ओह्म का नियम की परिभाषा (Definition Of Ohm’s Law)

इस नियम के अनुसार किसी बंद डीसी परिपथ में किसी चालक के सिरों पर पैदा होने वाला विभवांतर उसमें से बहने वाली धारा के समानुपाती होता है जबकि चालक का तापमान स्थिर बना रहे ।

अर्थार्थ हम इसे इस तरीके से भी कह सकते हैं किसी चालक तार(Conductor Wire) में से प्रभावित होने वाली विद्युत धारा (Electric Current) उस चालक तार के दोनों सिरों के बीच लगाए गए विभवांतर (Voltage)के समानुपाती (Proportional) होती है और प्रतिरोध के व्युत्क्रमानुपाती (Inversely Proportional) होती है जबकि सभी भौतिक अवस्था में  कोई परिवर्तन न हो खासकर चालक तार के तापमान में कोई परिवर्तन ना हो ।

I ∝ V  &  I ∝ 1/R

V = IR

यहाँ पर R एक नियतांक है इसे चालक का प्रतिरोध कहेते हैं V विभांतर(Voltage) है और I परिपथ की धारा (Electric Current है ।

Read More: Law Of Electric Resistance In Hindi

ओह्म का नियम उपयोग (Applications of Ohm’s Law)

आज हम ओह्म का नियम के प्रयोग परिपथ की विधुत धारा(Electric Current) विभवांतर(Voltage) तथा प्रतिरोध(Resistance) निकालने के लिए उपयोग में लेते हैं ।

ओह्म का नियम की सीमाएँ (Limitation of Ohm’s Law)

ओह्म का नियम AC और DC दोनों परिपथों में प्रयोग में लाया जाता है लेकिन AC परिपथो में उपयोग में लेने की यह शर्त है की परिपथ एक तरफा परिपथ (Unilateral Network) ना हो और न ही वह अरेखिये परिपथ (Non – Linear) हो।

एक तरफा परिपथ (Unilateral Network):

एक तरफ परिपथ में हम एक तरफा तत्व(Unilateral Elements) का प्रयोग करते हैं जैसे डायोड, ट्रांजिस्टर, निर्वात ट्यूब आदि इसके उदाहरण हैं । इनमें धारा का प्रवाह एक दिशा में होता है ।

अरेखिये परिपथ (Non – Linear Network):

ऐसे परिपथ जिन के अभिलक्षण(Characteristics) अरेखिये होते हैं मतलब जिनमे करंट और वोल्टेज एक दूसरे के समानुपाती नहीं होते हैं वह परिपथ अरेखिये परिपथ (Non – Linear Network) कहलाते हैं जैसे थायरिस्टर इलेक्ट्रिक आर्क आदि ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.